शिंदे खेमे में दरार के संकेत! मंत्री नहीं बनाए जाने पर 3 बार के विधायक ने उद्धव ठाकरे की तारीफ कर नाराजगी के दिए संकेत

0
52

Maharashtra Cabinet: औरंगाबाद पश्चिम विधायक संजय शिरसाट ने महाराष्ट्र में हुए सत्ता संघर्ष के बीच बागी तेवर दिखाते हुए एकनाथ शिंदे का साथ दिया था. जिसके कारण मंत्रिमंडल में उन्हें भी लिए जाने की चर्चा थी.

Maharashtra Cabinet: महाराष्ट्र में लंबे इंतजार के बाद सीएम एकनाथ शिंदे (CM Eknath Shinde) ने कैबिनेट का विस्तार तो कर लिया है लेकिन मंत्री पद नहीं मिलने के कारण विधायक अपनी नाराजगी भी जता रहे हैं. औरंगाबाद से 3 बार विधायक संजय शिरसाट (Sanjay Shirsat) मंत्री न बनाये जाने पर अपनी नाराजगी प्रकट करने लगे हैं. उन्होंने अपनी नाराजगी उद्धव ठाकरे की तारीफ़ में ट्वीट करके जताई. 

अपने ट्वीट में शिरसाट ने उद्धव ठाकरे को “महाराष्ट्र का कुटुंब प्रमुख” बताया है. हालांकि ट्वीट करने के 10 मिनट बाद ही शिरसाट ने इसे डिलीट कर दिया और सफाई देते हुए इस ट्वीट को तकनीकी खराबी बताया है. एक मराठी न्यूज चैनल से बात करते हुए शिरशाट ने कहा कि शिंदे समूह में हम सभी बहुत खुश हैं.

औरंगाबाद पश्चिम विधायक संजय शिरसाट ने महाराष्ट्र में हुए सत्ता संघर्ष के बीच बागी तेवर दिखाते हुए एकनाथ शिंदे का साथ दिया था. शिंदे खेमे में शुरू से ही शामिल होने के कारण मंत्रिमंडल में उन्हें भी लिए जाने की चर्चा थी. उन्होंने मंत्री पद नहीं मिलने को लेकर उन्होंने कहा कि मेरी नराजगी स्वाभिक हूं. मैं 38 साल से राजनीति में हूं और मुझे मंत्री पद मिलना चाहिए था. हालांकि वह ट्वीट तकनीकी कारण से हुआ है. मैं कहीं नहीं जा रहा हूं. मैं जो बोलता हूं सीधे बोलता हूं. 

महाराष्ट्र में कैबिनेट विस्तार के बाद मतभेद बरकरार!

महाराष्ट्र में कैबिनेट का विस्तार हो गया है, लेकिन विवाद अभी भी बरकरार है. सूत्रों के मुताबिक विभाग के बंटवारे को लेकर एकनाथ शिंदे और बीजेपी (BJP) में खींचतान जारी है. सबसे अधिक आलोचना मंत्रिपरिषद में किसी भी महिला को शामिल न किए जाने को लेकर भी हो रही है. बीजेपी की नेता पंकजा मुंडे ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल के विस्तार के दौरान उन्हें जगह नहीं दिए जाने पर गुरुवार को अपनी नाराजगी जताई थी. उन्होंने कहा था कि शायद उनमें पर्याप्त योग्यता नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here