एमपी : विदिशा नदी में गिरने के बाद 14 घंटे मौत से संघर्ष

0
55

विदिशा,13 अगस्त। कहते है कि ‘जा को राखे साईंया मार साके ना कोई’ ऐसा ही एक मामला एमपी के गंजबासौदा से सामने आया हैं। जहां पड़रिया गांव के रामभरोसी दांगी की बहन “सोनम” बेतवा नदी के बर्रीघाट पर बाइक स्लिप होने के कारण गाड़ी से गिर गई और नदी में बह गई। 5 किलोमीटर बहने के बाद सोनम ने निबोदिया, गंज पुल पर निर्माणाधीन पिलर के सरिये को पकड़ लिया। इसके बाद रेस्क्यू टीम की मदद से जब उसे नाव से लेकर रहे थे,तो नाव भी पलट गई और वे 15-20 किलोमीटर दूर राजखेड़ा गांव तक बह गई।

विस्तार से जानें पूरा मामला

विदिशा के गंजबासौदा में गुरुवार शाम को करीब 6 बजे पड़रिया शिवराम पुरम निवासी सोनम दांगी अपने भाई कल्लू के साथ बर्घी घाट के रास्ते से बाइक से गंजबासौदा आ रही थी। इतने में सोनम के भाई कल्लू की बाइक फिसल गई और सोनम बेतवा में बह गई। उसने किसी तरह निर्माणाधीन पुल के सरिए पकड़ लिए। इसके बाद सोनम ने कई घंटों सरिये को पकड़कर अपनी जान बचाई।

जवानों की टीम सोनम को निकालने पहुंची, तो पलटी नाव

बेतवा नदी में बह जाने के बाद सोनम को कई घंटों तक सरिया पकड़ कर अपनी जान बचानी पड़ी। इसके बाद पुलिस जवानों की टीम उसे निकालने पहुंचे और उसे वहां से निकाल लिया, लेकिन फिर उसे किनारे पर लाते समय जवानों की नाव पलट गई। और सोनम 15 किलोमीटर दूर बह गई

14 घंटे तक संघर्ष के बाद सोनम निकाली गई सुरक्षित

किनारे पर लाते समय जवानों की नाव पलट गई थी जिससे सोनम 15 किलोमीटर दूर रह गई थी। इसके बाद जवानों ने कड़ी मेहनत करके दोबारा रेस्क्यू चालू किया और सोनम को 15 किलोमीटर दूर राजखेड़ा से सुरक्षित नदी से बाहर निकाल लिया।

सोनम को देखने के लिए नेताओं सहित आम लोगों की लगी भीड़

रक्षाबंधन के दिन गंजबासौदा बरी घाट पर तेज बहाव के कारण बाइक फिसलने से सोनम बेतवा नदी में बह गई थी जिसकी जानकारी प्रसासन को लगी तो मोके पर पहुंचे गंज बासौदा विधायक प्रतिनिधि संजय जैन टप्पू, भाजपा जिलाध्यक्ष राकेश जादोन और आम लोगों की भीड़ खडाखेडी मोके पर पहुंच गई।

सोनम का सुरक्षित निकलना भगवान का आशीर्वाद

बेतवा नदी में गिरी सोनम के सुरक्षित बाहर निकलने के बाद स्थानीय लोग इसे भगवान का चमत्कार मान रहे हैं। दरअसल नदी में गिरी सोनम को 14 घंटे से ज्यादा हो चुके थे, कई घंटों तक उसने सरिया पकड़ कर अपनी जान बचाई। इसके बाद किनारे पर आकर नाव पलट जाने के कारण सोनम दोबारा नदी में बह गई थी, जिसके बाद उसे 15 किलोमीटर दूर से सुरक्षित निकाला गया। पूरी घटना को जानने के बाद ग्रामीण इसे चमत्कार से कम नहीं मान रहे है।

एनडीआरएफ ने दो युवकों को निकाला

टीकमगढ़ के पलेरा-नॉगांव मार्ग पर धसान नदी के उफान पर आने से दो युवक टापू पर फंस गए। सूचना मिलते ही प्रशासन पुलिस एवं एनडीआरएफ की टीम की मदद से इन लोगों को बाहर निकाला गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here