उत्तर प्रदेश सरकार को मिली बड़ी सफलता, 16257 लोगों को पीएम रोजगार योजना के तहत दी नौकरियां

0
61

उत्तरप्रदेश सरकार को रोजगार में बड़ी सफलता मिली है। योगी आदित्यनाथ सरकार ने पीएम रोजगार सृजन योजना के तहत बहुत सारी नौकरियां दी है। 2022-23 की पहली तिमाही में ही दूसरी तिमाही के लक्ष्य को हासिल कर लिया है। यह युवाओं को रोजगार देने और प्रदेश में अधिक से अधिक नए लघु-सूक्ष्म उघोग स्थापित करने के विजन को प्रदर्शित करता है।

अगस्त 3। उत्तरप्रदेश सरकार को रोजगार में बड़ी सफलता मिली है। योगी आदित्यनाथ सरकार ने पीएम रोजगार सृजन योजना के तहत बहुत सारी नौकरियां दी है। 2022-23 की पहली तिमाही में ही दूसरी तिमाही के लक्ष्य को हासिल कर लिया है। यह युवाओं को रोजगार देने और प्रदेश में अधिक से अधिक नए लघु-सूक्ष्म उघोग स्थापित करने के विजन को प्रदर्शित करता है। रोजगार के मामले में सरकार ने पहली तिमाही 108 फीसदी का लक्ष्य हासिल कर लिया है। उत्तरप्रदेश सरकार के अधिकारी की तरफ से कहा गया है कि प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना गावों में बहुत जल्दी जल्दी छोटे छोटे उद्योग शुरू किए जा रहे है।

लक्ष्य से 8 प्रतिशत अधिक लोगो को रोजगार दिया

इस योजना के तहत दूसरी तिमाही में 15,000 बेरोजगारों को रोजगार देने का लक्ष्य था। इसे पहली तिमाही में ही लक्ष्य से 8 प्रतिशत अधिक पूरा कर लिया गया है। सूक्ष्म और खादी ग्रामोद्योग निर्यात प्रोत्साहन के प्रमुख सचिव नवनीत सहगल ने कहा साथ ही दूसरी तिमाही में 15 हजार लोगो को सितंबर तक रोजगार देना था। इस लक्ष्य को जून में ही पूरा कर लिया है हमने 16257 लोगो को रोजगार दिया है।

कुल 2194 आवेदन को मंजूरी सरकार को पीएमईजीपी योजना में अन्तर्गत सितंबर तक 1850 यूनिट्स को गावों में लगानी थी। जिसको पहली तिमाही में 1636 यूनिट्स लग चुकी है। जो टारगेट को पूरा करने के 95 प्रतिशत के करीब है। पीएमईजीपी योजना के प्रभारी हरि राम सिंह की तरफ से यह बात कही गई और उन्होंने आगे कहा पीएमईजीपी योजना में गावों में लघु और सूक्ष्म उद्योग तेज गति से लगाए जा रहे है। अब तक कुल 2194 आवेदन को मंजूरी दी गई है। गावों में उद्योग लगाने के लिए 7 करोड़ रुपये मिले हैं। जिसमें से 6 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं।

प्रधानमंत्री रोजगार योजना केंद्र सरकार की एक पहल है प्रधानमंत्री रोजगार योजना। जिसका काम बेरोजगार लोगो को रोजगार का अवसर प्रदान करना है। वर्ष 1993 में यह योजना शुरू की गई थी। इस योजना के तहत युवाओं और महिलाओं को रोजगार दिया जाता है।

पीएमआरवाई में आवेदन कैसे करे यह योजना व्यापार, सर्विस, उद्योग के लिए 2 और 5 लाख प्रोजेक्ट लागत कवरेज प्रदान करती है। कृषि और संबंधित गतिविधियां शामिल हैं। इसमें सीधे कृषि संचालन वाले कार्य शामिल नहीं हैं। आपके एप्लीकेशन की समीक्षा की जाती है, और चुने गए लोगों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। ये सभी जिले में आयोजित किए जाते हैं। सभी जिलों में 3 पीएमआरवाय इंटरव्यू होते हैं।

पीएमआरवाई स्कीम में किस प्रकार की ट्रेनिंग दी जाएगी पीएमआरवाई स्कीम में किस प्रकार की ट्रेनिंग दी जाएगी पीएमआरवाई केंद्र सरकार की एक आकर्षक योजना है। यह 10 लाख शिक्षित और बेरोजगार युवाओं और को स्थायी स्व-रोजगार के अवसर देती है। पीएमआरवाई के तहत चुने गए उम्मीदवारों को ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाता है, जिसके बाद उन्हें सर्टिफिकेट भी दिए जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here