‘मिशन तेलंगाना 2023’ : केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का बयान , तेलंगाना में पूर्ण रूप से फहरेगा भाजपा का परचम

0
47

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि तेलंगाना में पिछले कुछ वर्षों में जो नई उमंग, नया विश्वास जनता के समक्ष भाजपा और प्रधानमंत्री के लिए उमड़ रही है उससे एक नई जागरूकता पैदा हो रही है। हमें विश्वास है कि आने वाले समय में भाजपा का परचम तेलंगाना में पूर्ण रूप से फहरेगा।

नयी दिल्ली। तेलंगाना में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने विधानसभा चुनाव को लेकर रणनीति बनाना शुरू कर दिया है। हाल ही में भाजपा ने 2 साल के अंतराल के बाद राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक की थी और इसके लिए पार्टी ने तेलंगाना को चुना था क्योंकि भाजपा की नजर दक्षिण के राज्यों में सत्ता स्थापित करने की है।

इसी बीच केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का बयान सामने आया है। जिसमें उन्होंने दावा किया कि आगामी समय में तेलंगाना में भाजपा का परचम पूर्ण रूप से फहराएगा। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि तेलंगाना में पिछले कुछ वर्षों में जो नई उमंग, नया विश्वास जनता के समक्ष भाजपा और प्रधानमंत्री के लिए उमड़ रही है उससे एक नई जागरूकता पैदा हो रही है। हमें विश्वास है कि आने वाले समय में भाजपा का परचम तेलंगाना में पूर्ण रूप से फहरेगा।

मिशन तेलंगाना के लिए एक्जिव हुई भाजपा

उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन करने वाली भाजपा ने आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं। आपको बता दें कि 18 साल बाद तेलंगाना में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई थी। ऐसे में पार्टी ने दक्षिणी राज्यों में खुद को स्थापित करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। पिछले विधानसभा चुनाव में तेलंगाना में भाजपा का एक ही विधायक चुनकर आया था लेकिन लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 4 सीटों जीतकर यह बता दिया था कि हम प्रदेश में मजबूत हो रहे हैं।

लोकसभा चुनाव के बाद कई उपचुनावों में भी भाजपा ने अच्छा प्रदर्शन किया था और पार्टी के वोट प्रतिशत में इजाफा भी देखने को मिला है। यही वजह है कि कभी राजग का समर्थन करने वाले तेलंगाना के मुख्यमंत्री और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) प्रमुख केसीआर का भाजपा से मोहभंग हो गया और वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सीधे चुनौती देने से गुरेज नहीं खाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here