जनपद कानपुर में बदले की आग में जल रहे दोस्तों ने केस्को के वरिष्ठ लिपिक के बेटे गोविंद वर्मा की हत्या की थी

0
63

एक घंटे तक रुकने के बाद पहुंचे उन्नाव

सागर मकड़ीखेड़ा में ही बहाना बनाकर उतर गया। वैसे भी कार में जगह नहीं थी। तब सागर ने कहा था कि काम हो जाए तो बता देना। बंटवारे का हिस्सा दे देना। एक घंटे तक मकड़ीखेड़ा में रुकने के बाद गोविंद को उसकी ही कार से सिंहपुर, परियर होते हुए उन्नाव के सिविल लाइंस ले जाया गया। यहां पर गोविंद से कहा गया कि जाओ सामने एटीएम से पैसे निकालकर लाओ। रोहन उसके पीछे-पीछे गया था और एटीएम के बाहर खड़ा रहा। तीन बार में 20 हजार रुपये निकाले गए। एक एटीएम से रुपये न निकलने पर गोविंद को दूसरे एटीएम पर भेजा गया।

गमछे से गला कसा, हाथ से घोटा

आरोपितों ने बताया कि गोविंद के रुपये निकालने के वक्त ही फैसला कर लिया था कि उसे मार कर फेंक देंगे। वहां से शुक्लागंज के रास्ते में सन्नाटा देखकर आकाश ने रोहन को इशारा किया। तभी प्रियांशू ने गोविंद के पैर व बगल में बैठे आदित्य ने उसके हाथ मजबूती से पकड़ लिए। आकाश और रोहन ने गमछे से उसका गला कसा। जिससे उसकी मौत हो गई।

यह माल हुआ बरामद

हत्यारों के पास से 50 हजार रुपए, कार, 315 बोर तमंचा, एक चेकदार शर्ट,1 मोटर साईकल समेत अन्य माल बरामद हुआ।

हत्यारोपियों के नाम

रोहन उर्फ गोलू पुत्र राजेश निवासी केसा कालोनी थाना नवाबगंज उम्र 20

आकाश उर्फ मोनू पुत्र राजेन्द्र गौतम निवासी परमियापुरवा थाना नवाबगंज उम्र 21

आदित्य कुमार पुत्र प्रदीप कुमार निवासी सुखऊपुरवा थाना नवाबगंज

सौरभ राठौर पुत्र रामनाथ राठौर निवासी परमियापुरवा थाना नवाबगंज

प्रिंयाशू कुमार पुत्र राकेश कुमार निवासी केसा कालोनी थाना नवाबगंज

सागर बल्मीकि पुत्र नरेश बाल्मीकी निवासी परमियापुरवा थाना नवाबगंज उम्र 20

पुलिस कमिश्नर विजय सिंह मीणा ने बताया कि गोविंद की हत्या में छह दोस्तों को गिरफ्तार किया गया है। गोविंद से हुक्का पीने को पाइप न देने का विवाद उसके एक दोस्त से हुआ था। उस दोस्त ने ही साथियों की मदद से हत्या कर दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here