उन्नाव के आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर गंगा पुल के नीचे दो दिनों से लापता युवक का शव पड़ा मिलने पर मचा हड़कंप

0
49

उन्नाव:- जनपद उन्नाव के बांगरमऊ कोतवाली क्षेत्र के आगरा- लखनऊ एक्सप्रेस वे स्थित गंगा पुल के नीचे सोमवार सुबह दो दिनों से लापता युवक का संदिग्ध हालत में शव पड़ा मिलने से हड़कंप मच गया। मां ने गुमशुदगी की तहरीर देते हुए महिला पर हत्या किए जाने का आरोप लगाया था। जांच पड़ताल बाद पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। क्षेत्राधिकारी पंकज सिंह के मुताबिक मां की तहरीर पर अगवा किए जाने का केस दर्ज किया गया है।पोस्टमार्टम रिपोर्ट में डूबने से मरने की पुष्टि हुई है।

जनपद उन्नाव के बांगरमऊ कोतवाली क्षेत्र के भिखारी पुरवा गांव के रहने वाले श्रीपाल का बेटा अंकित (29) गुजरात के वापी नगर में रहकर किसी फैक्ट्री में मजदूरी करता था। तीन जुलाई को घर लौटा था। शनिवार सुबह कही जाने की बात कहते हुए घर से चला गया था। देर शाम तक वह घर नहीं लौटा जिसके बाद रविवार को मां सुनीता देवी ने पुलिस में गुमशुदगी की तहरीर दी। रविवार को ही गांव पहुंचकर पुलिस से पूछताछ की गई। सोमवार को आगरा- लखनऊ एक्सप्रेस वे स्थित गंगा पुल के नीचे किनारे पहुंचे कुछ ग्रामीणों ने गंगा नदी में शव पड़ा मिलने से हड़कंप मच गया। खबर मिलते ही ग्रामीण मौके पर एकत्र हो गए। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे परिजनों ने उसकी पहचान अंकित के रूप में की गई। पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मृतक अंकित पांच भाई बहनों में दूसरे नंबर का था। बड़ी बहन कपूरी की शादी हो चुकी है। जबकि दूसरी बहन रोशनी, इंद्रपाल व छोटू दो भाई तीनों उससे छोटे है। मृतक अंकित की मां सुनीता देवी ने एक महिला पर बेटे की हत्या कर शव गंगा में फेंके जाने का आरोप लगाया जा रहा है।

मृतक अंकित की दो साल से महिला से थी दोस्ती

ग्रामीणों का कहना है कि सिरघरपुर गांव में संचालित एक निजी स्कूल में अंकित की एक बहन पढ़ती है। इसी स्कूल में आरोपित महिला के परिवार की भी एक बेटी पढ़ती है। इन्ही लड़कियों के माध्यम से किसी तरह अंकित व महिला की दो साल पहले दोस्ती हो गई थी। आरोपित महिला का पति दिल्ली में रहकर मजदूरी करता और ज्यादातर घर से बाहर ही रहता है। दोनों सजातीय बताए जा रहे हैं। मृतक अंकित का महिला के घर आना जाना लगा रहता था। संबंधों के पता चलने पर महिला के परिजनों को यह बात खटक रही थी।

मां ने महिला पर अगवा करने का लगाया था आरोप

पिछले काफी समय से अंकित का पड़ोसी गांव आडंगापुर निवासी दो बच्चों की मां से दोस्ती थी। बेटे अंकित के लापता होने पर मां ने पुलिस में दी गई तहरीर में महिला पर अगवा किए जाने का आरोप लगाया था। महिला से बुलाए जाने के बाद वह घर नहीं लौटा था।

हल्का दरोगा पर लापरवाही का आरोप

गुमशुदगी दर्ज होने पर हल्का दरोगा ने गांव पहुंच कर नामित महिला को एकांत में ले जाकर पूछताछ की गई थी। करीब एक घंटे की पूछताछ के बाद पुलिस महज औपचारिकता पूरी कर थाना लौट आई थी। जिसके चलते हल्का दरोगा की कार्यशैली पर भी लोग प्रश्न चिह्न लगाकर चर्चा कर रहे हैं।

हाथ पर नाम गुदा देख पुलिस ने अंकित के रूप में की थी पहचान

सूत्रों की मानें तो हाथ पर नाम गुदा होने से पुलिस ने शव की पहचान अंकित के रूप में की गई थी। उधर अंकित के चेहरे व शरीर पर चोट के निशान और पहचान मिटाए जाने के लिए केमिकल से चेहरे को जलाया जाने की बात कही जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here