लखनऊ में रेलवे ठेकेदार की हत्या के मास्टर माइंड फिरदौस के करीब पहुँची पुलिस, रेलवे ठेकेदार की हत्या का दो महीने पहले बनाया गया था प्लान

0
67

लखनऊ:- लखनऊ के छिपकर रह रहे रेलवे ठेकेदार और बिहार के हिस्ट्रीशीटर वीरेंद्र ठाकुर की हत्या के मास्टर माइंड फिरदौस के करीब लखनऊ पुलिस पहुँच गई है। उसके एक खास गुर्गे ने पूछताछ में कबूला है कि वीरेंद्र ठाकुर की हत्या का प्लान लगभग दो महीने पहले बन गया था। हत्या शुक्रवार को होनी थी लेकिन बिहार से आने वाले शूटर एक दिन देरी से पहुँचने से घटना को शनिवार को अंजाम दिया गया। पुलिस ने शूटर के रुकने वाले होटल में भी पूछताछ की है। तीनों गार्ड ने लोकेशन न पकड़ी जा सके इसके लिए सिम को निकालकर मोबाइल बीकेटी में फेंक दिया था। गार्ड की तलाश में एक टीम शाहजहांपुर और लखीमपुर में उनके करीबियों के घर छापेमारी कर रही है।

प्लानिंग के तहत भागे तीनों सुरक्षा गार्ड, बीकेटी से बरादम हुए मोबाइल

वीरेन्द्र ठाकुर की हत्या के बाद उनके सुरक्षा गार्ड डर के नहीं बल्कि प्लानिंग के साथ भागे थे। उनके मोबाइल फोन तीन दिन बाद लखनऊ के बीकेटी थाना क्षेत्र में मिले है जिन्हें वहाँ के तीन लड़के अपना सिम डालकर चला रहे थे। सर्विलांस की टीम की धरपकड़ में इसका खुलासा हुआ है। मोबाइल चलाने वाले लड़कों का कहना है कि उन्हें मोबाइल सोमवार को सड़क किनारे एक पेड़ के नीचे मिले थे। मोबाइल फोन दो युवक और एक किशोर चला रहा था। पुलिस टीम की जाँच में सामने आया है कि सभी गार्ड एक प्लानिंग के हिसाब से घटना स्थल से भागे थे। वह शहीद पथ होते हुए सीतापुर बाईपास से बीकेटी होते हुए आगे गए है।

बिहार के हिस्ट्रीशीटर वीरेंद्र ठाकुर के घर एक भी हथियार न मिलना बना बड़ा सवाल

बिहार के हिस्ट्रीशीटर वीरेंद्र ठाकुर के घर एक भी हथियार न मिलना कई सवाल खड़ा कर रहा है। जिसके विषय में जानकारी के लिए पुलिस उसके सुरक्षाकर्मियों की तलाश और तेज कर दी है। बिहार से जानकारी मिली है कि वीरेंद्र ठाकुर घर में भारी मात्रा में सुरक्षा के लिए हथियार और गोलियां रखता था। पुलिस की जाँच में सामने आया है कि उसके गार्ड घटना के बाद घर में मौजूद अवैध हथियार और कारतूस लेकर भागे हैं। इसके कारण ही उन्होंने अपने मोबाइल फोन तक रास्ते में फेक दिए और अभीतक घर नहीं पहुँचे। पुलिस शाहजहांपुर के जिलाधिकारी कार्यालय से तीनों गार्डो के हथियारों के लाइसेंस की जानकारी मांगी है जिससे उन्हें निरस्त कराने की प्रक्रिया कराई जा सके।

रेलवे ठेकेदार वीरेंद्र ठाकुर की पहली पत्नी के प्रेमी के घर पहुंची पुलिस टीम, घंटों चली पूछताछ

लखनऊ कैंट में शनिवार को रेलवे ठेकेदार और बिहार के हिस्ट्रीशीटर वीरेंद्र ठाकुर की घर के अंदर हत्या कर दी गई थी। इसमें उसकी दूसरी पत्नी खुशबून तारा ने पहली पत्नी प्रियंका उसके प्रेमी बिट्टू और फिरदौस के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज कराई थी। पुलिस की एक टीम प्रियंका के प्रेमी बिट्टू के घर पूछताछ करने पहुंची जहाँ से बिट्टू पहले से ही फरार है। परिजनों से पता चला है कि यह लोग वीरेंद्र ठाकुर उर्फ गोरख की हत्या के कुछ दिन पहले से ही इनकी कोई जानकारी नहीं है।

बिहार में पुलिस ने हत्या के मास्टर माइंड फिरदौस के परिजनों से की पूछताछ और दो लोगों को उठाया

पुलिस सूत्रों के मुताबिक वीरेंद्र ठाकुर उर्फ गोरख की हत्या की उसकी पुरानी रंजिश के चलते हुई है। हत्या के मास्टर माइंड फिरदौस के परिजनों से पुलिस ने पूछताछ की और फिरदौस के दो गुर्गो ने पूछताछ में हत्या की साजिश को लेकर कई अहम बातें भी बताई है जिसके आधार पर पुलिस उसकी धरपकड़ के लिए लगी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here