प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नवसारी में ‘गुजरात गौरव अभियान’ के दौरान कई विकास परियोजनाओं की शुरुआत की

0
72

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज गुजरात की शेर कर रहे है। नवसारी में आयोजित गुजरात गौरव अभियान कार्यक्रम में प्रधानमंत्री हिस्सा लेंगे, जहां वह 3,054 करोड़ रुपये की लागत वाले अलग-अलग विकास कार्यों के अंतर्गत सात योजनाओं का लोकार्पण, 12 योजनाओं का शिलान्यास व 14 योजनाओं का भूमिपूजन करेंगे। आपको बता दें की गुजरात सरकार की तरफ से जारी की गई प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक पीएम मोदी नवसारी में एएम नाइक स्वास्थ्य सेवा परिसर और निराली मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल का उद्घाटन करेंगे।इसके बाद अहमदाबाद के बोपल में स्थित भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र के मुख्यालय का भी उद्घाटन करेंगे। इनमें क्षेत्र में जल आपूर्ति में सुधार लाने और जीवनयापन आसान बनाने पर केंद्रित परियोजनाएं भी शामिल हैं।

PM ने खुडवेल में आदिवासियों को सम्बोधित किया

आपको बता की दें पीएम ने आदिवासियों की विशाल सभा को संबोधित करते हुए कहा, गुजरात गौरव अभियान का हिस्सा बनना मेरे लिए गर्व का पल है। यह भी मेरे लिए गर्व की बात है कि आज मेरी सभी में 5 लाख लोग एकत्रित हुए हैं। इतनी बड़ी संख्या में तो लोग मेरे मुख्यमंत्री के कार्यकाल में भी नहीं आते थे। यह सब कुछ गुजरा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल और प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल के प्रयासों से ही संभव हो पाया है। बहुत समय से मेरा यहां आने का मन था, क्योंकि मैं आदिवासी भाई-बहनों के विकास की ढेरों किस्से सुन रहा था।’

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के दौरान कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधा

बता दें की प्रधानमंत्री ने कहा की कांग्रेस के टाइम पर यहाँ एक पानी की टंकी तक न होती थी। चुनाव का मतलब काम नहीं, चुनौती है। मैं विरोधियों से कहना चाहता हूं कि कोई एक ऐसा हफ्ता खोजकर बता दो, जब कोई यहां विकास कार्य न हुआ हो। हम चुनाव जीतने नहीं आए हैं, लोगों का भला करने आए हैं। हम लोगों के आशीर्वाद से चुनाव जीतते हैं। पूर्व में आपके आदिवासी क्षेत्र में जो मुख्यमंत्री हुआ करते थे, तब यहां पानी की एक टंकी तक नहीं हुआ करती थी। उन्होंने हैंडपंप लगवाए तो वे भी 12 महीने से पहले दी दम तोड़ दिया करते थे। जब मैं CM बनकर आया, तब मेरी सरकार ने यहां के गांवो-गांवों में पानी की टंकियां बनवाईं। पानी की व्यवस्था की।’

मैं जब भी यहां आता था तो खाली हाथ ही आया करता था

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के दौरान ये भी बताया की मैंने समाज सेवा आपसे ही सीखी है। ‘मैं जब भी यहां आता था तो खाली हाथ ही आया करता था। आपका प्यार और आशीर्वाद से मुझे यहां से कभी भूखा नहीं जाना पड़ता था। आप लोगों ने ही मुझे आदिवासी क्षेत्रों के लिए काम करने का मौका दिया है। मुझे आपसे ही समाज के लिए बहुत कुछ सीखने को मिला है, क्योंकि आप ही हैं, जो पर्यावरण की रक्षा करते हुए समाज की सबसे बड़ी सेवा करते हैं। डांग जिले को प्राकृतिक खेती में उनके अद्भुत कार्य के लिए मैं बधाई देना चाहता हूं। मेरे जमाने में शुरू हुए साइंस स्ट्रीम के स्कूल ही हैं कि अब आदिवासी बेटों को डॉक्टर बनने के लिए अंग्रेजी सीखने की जरूरत नहीं पड़ती।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here