उन्नाव में बारात आई, जयमाल हुआ, चढ़ावे में आए चांदी के गहने तो गुस्सा गई दुल्हन और लौटाई बारात

0
49

उन्नाव:- जनपद उन्नाव में चढ़ावे में कम जेवर देखकर युवती ने शादी से इनकार कर दिया। मामला कोतवाली तक पहुंचा दोनों पक्षों ने सामान वापस करने पर सहमति जताई और बारात बिना दुल्हन ही लौट गई।

जनपद उन्नाव के सफीपुर कोतवाली क्षेत्र के शेरपुर खुर्द निवासी पप्पू रावत ने अपनी बड़ी बेटी सरोजनी (24) का विवाह लखनऊ के थाना अमौसी निवासी सुरेंद्र पुत्र राम सजीवन के साथ तय किया था। शुक्रवार शाम बरात गांव पहुंची। जयमाला के बाद दुल्हन के पिता ने चढ़ावे का जेवर कम देखकर हंगामा शुरू कर दिया। मामला बढ़ता देख दुल्हन भी अन्य महिलाओं के साथ बाहर निकल आई और शादी करने से इनकार कर दिया। रिश्तेदारों ने बीचबचाव करा पंचायत कराई लेकिन समझौता न होता देख दूल्हे के पिता ने पुलिस को फोन कर दिया और मामला कोतवाली पहुंच गया। दुल्हन की मां ने बताया कि गोद भराई की रस्म में वर पक्ष ने पुरानी साड़ी दी थी। दूल्हे को मैकेनिक बताया गया था और वह भी झूठ निकला। कन्या के पिता ने बताया कि 18 मई को तिलक में बाइक और ढाई लाख रुपये दिए थे। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे का सामान वापस करने की बात कही तो वही कोतवाल चंद्रकांत सिंह ने बताया कि दुल्हन के इनकार करने पर बरात लौट गई है।

जेवर देख बिगड़ गया दुल्हन का मूड, कहा नहीं करनी शादी

जयमाला के बाद रात में ही दुल्हन के घरवालों ने दूल्हे के परिवार से मिले सामान और जेवर देखने शुरू किए। इसमें हार और कंगन नहीं थे, केवल चांदी के ही जेवर थे। इस पर लड़की पक्ष ने हंगामा करना शुरू कर दिया। सरोजनी भी कमरे से बाहर निकल आई और उसका भी मूड बिगड़ गया। इसके बाद शादी से ही इंकार कर दिया। लड़के वाले जबरन शादी का दबाव बनाने लगे तो ग्रामीणों ने बारातियों को बंधक बना लिया। गांव में ही काफी देर तक सुलह के प्रयास चले लेकिन बात नहीं बनी।

दो माह पहले हुई थी सगाई, दहेज में दिए थे ढाई लाख रुपये

दुल्हन सरोजनी ने बताया कि दो माह पहले उसकी सुरेंद्र के साथ सगाई हुई थी। इसके बाद 18 मई को तिलक समारोह हुआ। इसमें लड़के पक्ष को एक बाइक और ढाई लाख रुपये नकद दिए गए थे। शादी में लड़के वालों ने सोने का हार और कंगन देने का वादा किया था लेकिन उसे पूरा नहीं कर पाए और परिवार को जेवर के नाम पर धोखा दिया गया। कोतवाली प्रभारी चंद्रकांत सिंह ने बताया कि दोनों पक्षों की सहमति से मामले को सुलझा दिया गया है।

बाइक और नकद वापस करेंगे लड़के पक्ष के लोग

रात में ही कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच गई और दोनों पक्षों को कोतवाली लेकर आई। यहाँ पाँच घंटे तक चली पंचायत के बाद भी लड़की वाले शादी को तैयार नहीं हुए। इसके बाद शनिवार की सुबह दूल्हा बिना दुल्हन के बारात लेकर लौट गया। दुल्हन के पिता पप्पू रावत ने बताया कि पुलिस ने समझौता करवाया है। इसमें लड़का पक्ष तिलक में दी गई बाइक और नकदी वापस करेगा। इसके अलावा जो भी खर्च हुआ है दोनों पक्ष मिलकर देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here