उन्नाव में घुमावदार ब्लैक प्वाइंट बना काल, एनएचएआई लगातर कर रहा लापरवाही

0
74

उन्नाव:- जनपद लखनऊ के गोमतीनगर विराटखंड दूरदर्शन स्टाफ कालोनी निवासी पूर्वाशा (20) बीएससी तृतीय वर्ष की छात्रा थी। सोमवार को कानपुर के डीबीएस कॉलेज में उसका पहला पेपर था। सुबह लगभग छह बजे बड़ी बहन चांदनी (28) उसे स्कूटी से कानपुर ले जा रही थी तभी जनपद उन्नाव के सोहरामऊ थाना क्षेत्र में दस नंबर गुमटी के पास मोड़ पर अज्ञात वाहन ने स्कूटी सवार बहनों को रौंद दिया और दोनों की मौके पर ही मौत हो गई जिसके बाद राहगीरों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने आधार कार्ड की मदद से मृतका के परिजनों को घटना की जानकारी दी। पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे पिता अवधेश ने बताया कि वह लखनऊ में दूरदर्शन में सीनियर टेक्नीशियन हैं। मंझली बेटी चांदनी बीटेक करने के बाद नौकरी की तलाश कर रही थी। छोटी बेटी पूर्वाशा विवाहित बहन पूजा के साथ कानपुर में रहकर पढ़ाई करती थी और इस समय वह लखनऊ में थी।

एनएचएआई की ओर से घुमावदार ब्लैक प्वाइंट पर कोई संकेतक नहीं लगाया गया है

हाईवे पर जिस जगह यह हादसा हुआ वहाँ सड़क पर घुमाव है। हादसे के बाद मौके पर पहुंचे लोगों को शव डिवाइडर के पास पड़े मिले। आशंका है कि इसी टर्न पर किसी वाहन के ओवरटेक करने से स्कूटी अनियंत्रित होकर डिवाइडर की ओर जाकर गिरी और पीछे से आए किसी वाहन ने पूर्वाशा और चांदनी को रौंद दिया। लखनऊ-कानपुर हाईवे पर जिस जगह हादसा हुआ वह ब्लैक प्वाइंट घोषित है। मोड़ पर कोई भी तेज रफ्तार वाहन हादसे का शिकार हो सकता है। यह जानते हुए भी एनएचएआई की ओर से इस प्वाइंट पर कोई संकेतक नहीं लगाया गया है। जिससे आए दिन लोग हादसे का शिकार हो रहे हैं। दो बेटियों की मौत से माता-पिता पर गम का पहाड़ टूट पड़ा है। पिता अवधेश ने बताया कि ईश्वर ने उसे बेटा नहीं दिया और तीन बेटियां ही उसके लिए बेटा थीं। बड़ी बेटी की शादी होने के बाद छोटी बेटियां ही उनका ख्याल रखतीं थी। मां कांति देवी बेटियों के शव देखकर बेहोश हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here