कैब चालक का नहीं मिला मोबाइल, छिपे हो सकते हैं कई राज

0
93

उन्नाव:- जनपद कानपुर के कैब चालक की हत्या में आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद भी पुलिस उसका मोबाइल बरामद नहीं कर सकी। मृतक के परिजनों और रिश्तेदारों ने साजिशन हत्या का अंदेशा जताया है। उन्होंने मृतक के मोबाइल में कई राज छिपे होने की आशंका भी जताई है। घटना के दूसरे दिन पुलिस ने साक्ष्य छिपाने की धारा बढ़ाई है। रविवार को तीनों हत्यारोपियों को न्यायालय में पेश किया गया और सभी को जेल भेज दिया गया है।पुलिस अधीक्षक ने हत्यारोपियों पर गैंगस्टर लगाने की बात कही है। जनपद कानपुर के नौबस्ता थाना क्षेत्र के बसंत विहार कालोनी निवासी कैब चालक विपिन पाल (40) की शुक्रवार रात हत्या कर शव अचलगंज थाना क्षेत्र में हाईवे से कुछ दूरी पर फेंक दिया गया था पत्नी विनीता की सूझबूझ से हत्यारोपियों को कानपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर अचलगंज थाना पुलिस के हवाले कर दिया था जिसमें पूछताछ के बाद हत्या और लूट की धारा में रिपोर्ट दर्ज की गई थी।

रविवार को पोस्टमार्टम हाउस में मौजूद मृतक के पिता चंद्रपाल ने इसे सुनियोजित हत्या बताया है। वहीं पुलिस ने एफआईआर में हत्या और लूट के साथ ही साक्ष्य छिपाने की धारा भी बढ़ाई है। हत्यारोपी कानपुर किदवई नगर के बाबूपुरवा निवासी अमित वर्मा, आयुष श्रीवास्तव और मन्नू के कब्जे से लूट के 11 हजार रुपयों में 1350 रुपये व कार बरामद कर जेल भेज दिया। प्रभारी निरीक्षक अरविंद कुमार सिंह ने बताया कि मोबाइल की तलाश और घटना से जुड़े अन्य तथ्यों को सामने लाने के लिए जल्द ही हत्यारोपियों को रिमांड पर लिया जाएगा। पोस्टमार्टम के बाद विपिन के शव को लेकर परिजन कानपुर चले गए। मृतक के पिता ने सवाल उठाया कि हत्यारोपी मृतक की पत्नी के स्कूल के बाहर कार लेकर क्यों पहुंचे। शायद हत्यारोपी जानते थे कि विपिन की पत्नी विनीता रमईपुर स्थित स्कूल में नौकरी करती है। शव फेंकने से पहले कपड़े उतारने की क्या वजह थी। किसी के इशारे पर तो हत्या को अंजाम नहीं दिया गया। पिता के अनुसार पुलिस कपड़े और मोबाइल नहीं खोज पाई है। मोबाइल फोन में कई राज छिपे हो सकते हैं तो वही पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृतक के सिर पर पीछे व आगे की ओर वजनी चीज से प्रहार करने की 11 गंभीर चोटें मिली है जबकि एक चोट हाथ में मिली है। डॉक्टर ने अधिक खून बहने व सिर में गंभीर चोट से मौत की पुष्टि की है। चर्चा है कि मंझावन चौकी क्षेत्र में कैब चालक के हत्यारोपियों को पकड़े जाने के बाद मृतक की लूटी गई कार से एक चाकू भी बरामद हुई थी। जिसमें खून लगा था लेकिन रविवार को खुलासे के दौरान अचलगंज पुलिस ने चाकू मिलने का जिक्र नहीं किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here