उन्नाव में नौकरी के पहले ही दिन नर्स की दुष्कर्म के बाद हत्या, तीन नामित और एक अज्ञात पर रिपोर्ट दर्ज

0
66

उन्नाव में नौकरी के पहले ही दिन नर्स की दुष्कर्म के बाद हत्या, तीन नामित और एक अज्ञात पर रिपोर्ट दर्ज

उन्नाव:- जनपद उन्नाव के बांगरमऊ से दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। यहां पहले ही दिन नर्सिंगहोम में नर्स की नौकरी करने पहुंची युवती का शव नर्सिंग होम की छत पर दीवार के सहारे सरिया से फंदे पर लटकता हुआ मिला है। नर्स की माँ ने नर्सिंगहोम संचालक सहित चार लोगों पर सामूहिक दुष्कर्म के बाद उनकी बेटी की हत्या किए जाने का आरोप लगाया है। पुलिस ने मृतक की माँ की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है और अब पुलिस को नर्स की पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है। जनपद उन्नाव के बांगरमऊ-हरदोई मार्ग पर कोतवाली क्षेत्र के दुल्लापुरवा गांव में पांच दिन पहले तहिरापुर निवासी शिवप्यारी सिंह के किराये के मकान में नूर आलम ने न्यू जीवन नर्सिंगहोम का संचालन शुरू किया था। जनपद के ही आसीवन थानाक्षेत्र के एक गांव की 18 वर्षीय युवती इस नर्सिंगहोम में शुक्रवार को पहले दिन नर्स की नौकरी करने गई थी जिसके बाद शनिवार सुबह युवती का शव अस्पताल की छत पर पीछे की तरफ आरसीसी पिलर की सरिया से रस्सी के सहारे फंदे से लटका पाया गया। सूचना मिलते ही बांगरमऊ सीओ विक्रमाजीत सिंह और कोतवाल बृजेंद्रनाथ शुक्ल मौके पर पहुंचे और जांच की। उधर बेटी की मौत की खबर पाकर माँ वहां पहुंची और शव देखकर बदहवास हो गई उन्होंने नर्सिंगहोम संचालक बांगरमऊ निवासी नूर आलम, चांद आलम, अनिल कुमार और एक अज्ञात पर सामूहिक दुष्कर्म के बाद बेटी की हत्या किए जाने का आरोप लगाते हुए पुलिस को तहरीर दी है। जिसके बाद पुलिस ने तहरीर के आधार पर सामूहिक दुष्कर्म और हत्या की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। सीओ विक्रमाजीत सिंह ने बताया कि तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।

सात वर्ष पहले पिता की हो चुकी है मौत

नर्स के पिता की सात वर्ष पहले मृत्यु हो गई थी। नर्स आठ बहनों में चौथे नंबर की थी जिसमें से तीन बहनों का विवाह हो चुका है। माँ के अनुसार उनका कोई बेटा न होने से परिवार का खर्च और बहनों की परवरिश के लिए उसकी इस बेटी ने नौकरी की शुरुआत की थी।

पहले ही दिन लगाई थी रात्रि ड्यूटी

माँ का आरोप है कि ड्यूटी ज्वाइन करने के पहले दिन ही नर्सिंगहोम संचालक ने उनकी बेटी की रात में ड्यूटी लगा दी थी और उन्होंने बताया कि शुक्रवार शाम को वह ड्यूटी पर जाने के लिए घर से निकली थी। जिस समय वह निकली थी नौकरी मिलने से काफी खुश थी और अचानक शनिवार की सुबह उसका शव फंदे से लटके होने की उनको सूचना मिली।

सीएमओ कार्यालय में पंजीकृत नहीं है नर्सिंगहोम

न्यू जीवन नर्सिंग होम बिना पंजीकरण के ही संचालित हो रहा था। पांच दिन पहले ही इसकी शुरुआत हुई थी। स्वास्थ्य विभाग अगर सचेत होता तो ऐसे नर्सिंगहोम का संचालन ही न हो पाता और युवती की जान जाने से बच जाती।
 
डॉक्टरों के पैनल ने किया पोस्टमार्टम

नर्स के शव का पोस्टमार्टम दो डॉक्टरों के पैनल से कराया गया और पोस्टमार्टम प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी कराई गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।


प्राप्त जानकारी के अनुसार न्यू जीवन नर्सिंग होम का संचालन तीन लोगों ने मिलकर शुरू किया है और अस्पताल के बाहर लगे बोर्ड में डॉ. अनिल कुमार के साथ निदेशक चांद बाबू व मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. असलम का नाम पड़ा हुआ है। यह तीनों लोग ही अस्पताल में कर्मचारियों की नियुक्ति भी कर रहे थे। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से मात्र 300 मीटर दूर संचालित इस अस्पताल के बारे में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को भनक तक नहीं थी। नियमानुसार नर्सिंग होम में मरीजों को भर्ती करना तो दूर कर्मचारियों की तैनाती तब तक नहीं की जा सकती जब तक उसका पंजीकरण न हो जाए। उक्त अस्पताल संचालक ने पंजीकरण के लिए आवेदन तक भी नहीं किया था और सभी गतिविधियां शुरू कर दी थीं। जांच करने गई पुलिस को अस्पताल में मरीज भी भर्ती नहीं मिले। सीएमओ डॉ. सत्यप्रकाश ने बताया कि बिना पंजीकरण निजी अस्पताल संचालित था जोकि नियमानुसार नहीं होना चाहिए था और घटना के बाद इसकी जानकारी हुई है। रविवार को एसीएमओ को भेजकर पूरी जाँच कराई जाएगी। इसके बाद आगे की कार्यवाही होगी।

उन्नाव:- जनपद उन्नाव के बांगरमऊ से दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। यहां पहले ही दिन नर्सिंगहोम में नर्स की नौकरी करने पहुंची युवती का शव नर्सिंग होम की छत पर दीवार के सहारे सरिया से फंदे पर लटकता हुआ मिला है। नर्स की माँ ने नर्सिंगहोम संचालक सहित चार लोगों पर सामूहिक दुष्कर्म के बाद उनकी बेटी की हत्या किए जाने का आरोप लगाया है। पुलिस ने मृतक की माँ की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है और अब पुलिस को नर्स की पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है। जनपद उन्नाव के बांगरमऊ-हरदोई मार्ग पर कोतवाली क्षेत्र के दुल्लापुरवा गांव में पांच दिन पहले तहिरापुर निवासी शिवप्यारी सिंह के किराये के मकान में नूर आलम ने न्यू जीवन नर्सिंगहोम का संचालन शुरू किया था। जनपद के ही आसीवन थानाक्षेत्र के एक गांव की 18 वर्षीय युवती इस नर्सिंगहोम में शुक्रवार को पहले दिन नर्स की नौकरी करने गई थी जिसके बाद शनिवार सुबह युवती का शव अस्पताल की छत पर पीछे की तरफ आरसीसी पिलर की सरिया से रस्सी के सहारे फंदे से लटका पाया गया। सूचना मिलते ही बांगरमऊ सीओ विक्रमाजीत सिंह और कोतवाल बृजेंद्रनाथ शुक्ल मौके पर पहुंचे और जांच की। उधर बेटी की मौत की खबर पाकर माँ वहां पहुंची और शव देखकर बदहवास हो गई उन्होंने नर्सिंगहोम संचालक बांगरमऊ निवासी नूर आलम, चांद आलम, अनिल कुमार और एक अज्ञात पर सामूहिक दुष्कर्म के बाद बेटी की हत्या किए जाने का आरोप लगाते हुए पुलिस को तहरीर दी है। जिसके बाद पुलिस ने तहरीर के आधार पर सामूहिक दुष्कर्म और हत्या की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की है। सीओ विक्रमाजीत सिंह ने बताया कि तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।

सात वर्ष पहले पिता की हो चुकी है मौत

नर्स के पिता की सात वर्ष पहले मृत्यु हो गई थी। नर्स आठ बहनों में चौथे नंबर की थी जिसमें से तीन बहनों का विवाह हो चुका है। माँ के अनुसार उनका कोई बेटा न होने से परिवार का खर्च और बहनों की परवरिश के लिए उसकी इस बेटी ने नौकरी की शुरुआत की थी।

पहले ही दिन लगाई थी रात्रि ड्यूटी

माँ का आरोप है कि ड्यूटी ज्वाइन करने के पहले दिन ही नर्सिंगहोम संचालक ने उनकी बेटी की रात में ड्यूटी लगा दी थी और उन्होंने बताया कि शुक्रवार शाम को वह ड्यूटी पर जाने के लिए घर से निकली थी। जिस समय वह निकली थी नौकरी मिलने से काफी खुश थी और अचानक शनिवार की सुबह उसका शव फंदे से लटके होने की उनको सूचना मिली।

सीएमओ कार्यालय में पंजीकृत नहीं है नर्सिंगहोम

न्यू जीवन नर्सिंग होम बिना पंजीकरण के ही संचालित हो रहा था। पांच दिन पहले ही इसकी शुरुआत हुई थी। स्वास्थ्य विभाग अगर सचेत होता तो ऐसे नर्सिंगहोम का संचालन ही न हो पाता और युवती की जान जाने से बच जाती।
 
डॉक्टरों के पैनल ने किया पोस्टमार्टम

नर्स के शव का पोस्टमार्टम दो डॉक्टरों के पैनल से कराया गया और पोस्टमार्टम प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी कराई गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्यवाही की जाएगी।


प्राप्त जानकारी के अनुसार न्यू जीवन नर्सिंग होम का संचालन तीन लोगों ने मिलकर शुरू किया है और अस्पताल के बाहर लगे बोर्ड में डॉ. अनिल कुमार के साथ निदेशक चांद बाबू व मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. असलम का नाम पड़ा हुआ है। यह तीनों लोग ही अस्पताल में कर्मचारियों की नियुक्ति भी कर रहे थे। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से मात्र 300 मीटर दूर संचालित इस अस्पताल के बारे में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को भनक तक नहीं थी। नियमानुसार नर्सिंग होम में मरीजों को भर्ती करना तो दूर कर्मचारियों की तैनाती तब तक नहीं की जा सकती जब तक उसका पंजीकरण न हो जाए। उक्त अस्पताल संचालक ने पंजीकरण के लिए आवेदन तक भी नहीं किया था और सभी गतिविधियां शुरू कर दी थीं। जांच करने गई पुलिस को अस्पताल में मरीज भी भर्ती नहीं मिले। सीएमओ डॉ. सत्यप्रकाश ने बताया कि बिना पंजीकरण निजी अस्पताल संचालित था जोकि नियमानुसार नहीं होना चाहिए था और घटना के बाद इसकी जानकारी हुई है। रविवार को एसीएमओ को भेजकर पूरी जाँच कराई जाएगी। इसके बाद आगे की कार्यवाही होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here