प्रियंका गांधी का ट्वीट: “अपनी मर्जी के कपड़े पहनना महिलाओं का अधिकार” बिकिनी,घूंघट, हिजाब या जींस में से पहनना क्या है यह उनकी पसंद।

0
171

कर्नाटक में हिजाब विवाद अब पूरे देश में बड़ा मुद्दा बनता जा रहा है। गौरतलब है कि कर्नाटक में कुछ कॉलेजों में मुस्लिम लड़कियों को हिजाब पहन कर क्लास रूप में जाने पर प्रतिबंध लगाया गया है। अब इस मामले में कांग्रेस लीडर प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को कर्नाटक में कॉलेज के छात्रों के समर्थन में आईं।

उन्होंने आज ट्वीट कर लिखा कि महिलाओं को अपने हिसाब से कपड़े पहनने का हक है, जो कि उनको संविधान से मिला है।भारत का संविधान उसे कुछ भी पहनने की गारंटी देता है। इसलिए महिलाओं को प्रताड़ित करना बंद करें।’ ट्वीट के आखिर में प्रियंका ने अपने कैंपेन का हैशटैग ‘लड़की हूं, लड़ सकती हूं’ भी लगाया है।

पार्टी ने चुनाव से पहले महिलाओं के अधिकारों और सशक्तिकरण को प्रमुख मुद्दों में से एक के रूप में देखा है, जिसमें प्रियंका गांधी इस प्रभार का नेतृत्व कर रही हैं।

साथ ही कुछ दिन पहले राहुल गांधी ने भी ट्वीट करते हुए लिखा था, ‘छात्रों के हिजाब को उनकी शिक्षा में आड़े आने देकर हम भारत की बेटियों का भविष्य खराब कर रहे हैं। मां सरस्वती सभी को ज्ञान देती हैं। वह भेदभाव नहीं करती।’

बता दें कि कर्नाटक में हिजाब विवाद जनवरी को शुरू हुआ था। यूपी के सरकारी पीयू कॉलेज में 6 मुस्लिम छात्राओं को हिजाब पहनकर क्लास में बैठने से रोक दिया गया था। कॉलेज मैनेजमेंट ने नई यूनिफॉर्म पॉलिसी को इसकी वजह बताया था। इसके बाद कुछ लड़कियों ने कर्नाटक हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की थी।

लड़कियों का तर्क है कि हिजाब पहनने की इजाजत न देना संविधान के अनुच्छेद 14 और 25 के तहत उनके मौलिक अधिकार का हनन है। कर्नाटक हाईकोर्ट में मंगलवार को हिजाब मामले में मुस्लिम छात्राओं की 4 याचिकाओं पर सुनवाई हुई।

जस्टिस कृष्णा दीक्षित ने कहा कि हम कारणों और कानून के मुताबिक चलेंगे, किसी के जुनून या भावनाओं से नहीं। जो संविधान कहेगा, हम वही करेंगे। संविधान ही हमारे लिए भगवदगीता है। कोर्ट बुधवार को एक बार फिर ढाई बजे मामले पर सुनवाई करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here