सीएम चन्नी के रिश्तेदार के घर ED की रेड मामले में अब तक 10 करोड़ से ज्यादा का कैश बरामद, अब कस सकता है आयकर विभाग का शिकंजा।

0
176

ED छापेमारी मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के रिश्तेदारों के घर पर हुई है। ईडी ने मोहाली, लुधियाना और फतेहगढ़ साहिब में दबिश दी। बता दें अब तक हनी मोहाली स्थित आवास से 7.9 करोड़ की कुल नकद जब्त किए गए हैं। वहीं पंजाब में अब तक कुल मिलाकर 10.7 से ज्यादा का कैश बरामद किया जा चुका है।

ईडी के एक आला अधिकारी ने बताया की अवैध बालू खनन मामले में पिंजौर रॉयल्टी कंपनी और उसके साझेदारों शेयर धारकों जिनमें कुदरत दीप सिंह, कवर महीप सिंह, मनप्रीत सिंह, सुनील कुमार, भूपिंदर सिंह हनी, संदीप कुमार और अन्य लोगों के ठिकानों पर छापेमारी की थी। यह छापेमारी मोहाली लुधियाना रूपनगर फतेहगढ़ साहिब और पठानकोट इलाके में की गई थी।

ईडी के मुताबिक इस छापेमारी के दौरान 10 करोड़ रुपए से अधिक की नकदी कई मोबाइल फोन, 21 लाख रुपए से अधिक मूल्य का सोना और 12 लाख रुपए मूल्य की एक रोलेक्स घड़ी बरामद की गई। ईडी ने यह मामला पंजाब के पुलिस थाने शहीद भगत सिंह नगर द्वारा दर्ज विभिन्न आपराधिक धाराओं के तहत एफआईआर के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत दर्ज किया था।

पंजाब में छापेमारी के दौरान कुछ कंपनी से जुड़े महत्वपूर्ण दस्तावेज भी मिले हैं, जिसमें ये पता चलता है कि भूपेंद्र ( मुख्यमंत्री का रिश्तेदार ) और रेत माफिया कुदरतदीप दो कंपनी के संयुक्त तौर पर डायरेक्टर भी हैं , उस कंपनी द्वारा बहुत ज्यादा काम भी नहीं होता है लेकिन पैसों का संदिग्ध लेनदेन ज्यादा है।

ईडी ने मोहाली के एक निजी अपार्टमेंट में रेड मारी। यह रेड काफी लंबी चली। अपार्टमेंट के सेक्रेटरी ने बताया कि सुबह 8 बजे रेड शुरू हुई है। यहां ईडी की टीम के साथ सीआरपीएफ की टीम भी पहुंची है। पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी के रिश्तेदार भूपेंद्र के दो ठिकानों से 8 करोड़ रुपये जब्त किये गए हैं।

वहीं एक अन्य आरोपी के पास से दो करोड़ रुपये जब्त किये गए हैं। वहीं दूसरी ओर लुधियाना के एक घर में रेड मारी गई। इसक साथ-साथ फतेहगढ़ साहिब के गांव बुगा कलां में कांग्रेस के सरपंच रनदीप सिंह के घर पर भी ईडी ने छापा मारा। ईडी की टीम ने यहां पंजाब पुलिस को भी अंदर नहीं जाने दिया।

बताया जा रहा है कि फतेहगढ़ साहिब मे कांग्रेस सरपंच की नजदीकियां पंजाब के कृषि मंत्री रनदीप सिंह काका से हैं। छापेमारी पर प्रतिक्रिया देते हुए चन्नी ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा था, ‘पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के दौरान वहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के कई रिश्तेदारों के ठिकानों पर छापेमारी की गई थी।

अब पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले उन पर, उनके मंत्रियों पर और कांग्रेस पार्टी के सदस्यों पर दबाव बनाने के लिए भी ईडी की ओर से यही रणनीति अपनाई जा रही है।’ चन्नी ने खनन मामले से कोई संबंध नहीं होने का दावा करते हुए कहा, ‘हम दबाव झेलने को तैयार हैं….’

ईडी सूत्रों के मुताबिक इस मामले में भूपेंद्र सिंह उर्फ हनी जिसके यहां छापा मारा गया वह पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी का रिश्तेदार बताया जाता है। जांच एजेंसियों को शक है कि मुख्यमंत्री चन्नी के रिश्तेदार हनी के यहां से बरामद पैसा चुनावों के लिए भी इकट्टा किया गया हो। क्योंकि यह पैसा छोटे बैगों मे भरा हुआ मिला है और इन पैसों में पांच सौ के अलावा दो-दो सौ रुपये के नोट भी शामिल हैं।

फिलहाल हनी और उसके सहयोगियो से इस पैसे की बाबत पूछताछ जारी है। आने वाले दिनों मे मुख्यमंत्री चन्नी की मुश्किलें एक बार फिर बढ सकती है। क्योंकि ईडी के बाद आयकर विभाग भी हनी पर अपना शिकंजा कस सकता है।

आय़कर विभाग यह जानने की कोशिश करेगा कि करोड़ो रुपये की जो रकम हनी के यहां से बरामद हुई है उसकी बाबत उसने अपनी आयकर रिटर्न मे जानकारी दी थी या नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here