भारत की Agni-5 मिसाइल: सामरिक बल कमान ने अग्नि V परीक्षण किया, 5,000 किमी दूर लक्ष्य को मारा।

0
303

भारत ने आखिर आज बुधवार को सतह से सतह में मार करने वाली बैलेस्टिक मिसाइल अग्नि-5 का बुधवार को शाम करीब 7:50 बजे सफलतापूर्व परीक्षण किया है। इसकी रेंज 5000 किलोमीटर है। रात के परीक्षण के पीछे का मकसद यह परीक्षण करना था कि उपयोगकर्ता, एसएफसी, दिन और रात के संचालन मोड में हथियार को संभाल सकता है या नहीं।

यह समझा जाता है कि मिसाइल पूरी तरह से विकसित है और आवश्यकता के मामले में आगे के परीक्षण करने के लिए स्वतंत्र रूप से एसएफसी के साथ शामिल है। अग्नि V मिसाइल उन्नत मार्गदर्शन के साथ सतह से सतह पर मार करने वाली तीन चरणों वाली ठोस ईंधन वाली मिसाइल हैभारत सरकार की नीति है कि वह पहले किसी हथियार का उपयोग नहीं करेगी।

इसका मतलब ये है कि फिलहाल किया गया परीक्षण सैन्य क्षमता और ताकत बढ़ाने के लिए है। इस मिसाइल से एशिया के कई शहरों को निशाना बनाया जा सकता है। मिसाइल, जिसे रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) के टेलीमेट्री और रडार जहाजों द्वारा ट्रैक किया गया था, ने निर्धारित मापदंडों के अनुसार सही उड़ान प्रक्षेपवक्र लिया और 15 से 18 मिनट के भीतर लक्ष्य को हिट कर दिया।

यह बैलिस्टिक मिसाइल का आठवां सफल परीक्षण था, जो चीन की बढ़ी हुई मध्यम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल क्षमता और पाकिस्तान की परमाणु महत्वाकांक्षा की पृष्ठभूमि में भारत की न्यूनतम प्रतिरोधक क्षमता के मूल में है। कुछ दिन पहले अग्नि-5 मिसाइल को लेकर चीन समेत कई देशों ने अपनी नाराजगी जाहिर की थी। लेकिन भारत पहले ही अग्नि-5 मिसाइल का सात बार सफल परीक्षण कर चुका है।

चीन की नाराजगी इसलिए है क्योंकि अग्नि-5 मिसाइल की रेंज में उसका पूरा देश आ रहा है। ऐसा कोई शहर नहीं हैं जो इस मिसाइल के हमले से बच सके। अग्नि-5 अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (Agni-V ICBM) को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) और भारत डायनेमिक्स लिमिटेड (BDL) ने मिलकर बनाया है।

डेवलपर्स समुद्र में लॉन्च की गई बैलिस्टिक मिसाइल पर भी काम कर रहे हैं, जिसमें अग्नि वी मिसाइल के समान रेंज है। 5000 किमी रेंज की मिसाइल ले जाने वाली परमाणु पनडुब्बी के साथ, भारतीय परमाणु त्रय इस सीमा तक कैप करने की उम्मीद है जब तक कि सरकार एशिया में सुरक्षा परिदृश्य बिगड़ने की स्थिति में लंबी दूरी तक जाने का फैसला नहीं करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here