कैबिनेट ने मानव निर्मित रेशों के लिए 10,683 करोड़ रुपये के पीएलआई की घोषणा की, अब कपड़ा उद्योग को भी मिलेगा पीएलआई स्कीम का लाभ !

0
426

कपड़ा उद्योग को बड़ी राहत देते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इसके लिए PLI Scheme की घोषणा की है. टेक्सटाइल सेक्टर के लिए इस स्कीम के तहत 10683 करोड़ रुपए की घोषणा की गई है। इस स्कीम की मदद से कपड़ा उद्योग में 7.5 लाख लोगों को नौकरी लगेगी। माना जा रहा है कि इस स्कीम के लागू करने से अगले पांच सालों में कपड़ा उद्योग में 19 हजार करोड़ का फ्रेश इन्वेस्टमेंट आएगा।

इसके अलावा अगले पांच सालों में 3 लाख करोड़ का एडिशनल प्रोडक्शन होगा जिससे निर्यात में भी तेजी आएगी। कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल ने 8 सितंबर को कहा कि भारतीय उत्पादक सूती वस्त्रों से इन नए उत्पादों पर स्विच करते हैं, जो वैश्विक कपड़ा उत्पादन का दो-तिहाई हिस्सा हैं।

केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने आगे कहा कि इस योजना से घरेलू विनिर्माण और निर्यात को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। इस योजना का उद्देश्य इन उत्पादों के उत्पादन को बढ़ावा देना और विश्व स्तर पर परिधानों और वस्त्रों के सबसे बड़े स्रोतों में से एक के रूप में भारत की स्थिति को फिर से हासिल करना है।

जबकि भारत विश्व स्तर पर सबसे बड़े उत्पादकों में से एक बना हुआ है, वैश्विक उत्पादन और निर्यात में इसका हिस्सा पिछले एक दशक में लगातार कम हुआ है क्योंकि बांग्लादेश और थाईलैंड जैसे छोटे राष्ट्र आगे बढ़ गए हैं। अनुराग ठाकुर ने उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एमएमएफ (कृत्रिम रेशे) परिधान, एमएमएफ फैब्रिक्स तथा टेक्निकल टेक्सटाइल के 10 खंडों/उत्पादों के लिए 10,683 करोड़ रुपये की

पीएलआई योजना को मंजूरी दी है। कपड़ा क्षेत्र के लिए पीएलआई योजना बजट 2021-22 में 13 क्षेत्रों के लिए की गई घोषणाओं का हिस्सा है। बजट में 13 क्षेत्रों के लिए 1.97 लाख करोड़ रुपये की योजनाओं की घोषणा की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here