आईटी एक्ट के हटा दिए गए सेक्शन 66ए के तहत केस दर्ज न करें, मिला राज्यों और उच्च न्यायालयों को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस !

0
572

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और उच्च न्यायालयों के रजिस्ट्रार को पीपल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज (पीयूसीएल) द्वारा दायर याचिका में नोटिस जारी किया, जिसमें श्रेया सिंघल मामले के फैसले के तहत धारा 66 ए के प्रावधान के तहत प्राथमिकी के खिलाफ विभिन्न दिशा-निर्देश और गाइडलाइन मांगी गई हैं।

गृह मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को आईटी अधिनियम की धारा 66 ए को खत्म करने के लिए 24 मार्च, 2015 को सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी आदेश के अनुपालन के लिए कानून प्रवर्तन एजेंसियों को संवेदनशील बनाने के लिए भी कहा है। खंडपीठ ने कहा, “चूंकि ये मामला पुलिस और न्यायपालिका से जुड़ा है, इसलिए हम सभी राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और उच्च न्यायालयों के रजिस्ट्रार जनरल को नोटिस जारी करते हैं.”

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में सभी पार्टियों को नोटिस का जवाब देने के लिए चार हफ़्तों के वक्त दिया है।

5 जुलाई को, सुप्रीम कोर्ट ने छह साल पहले रद्द किए जाने के बावजूद पुलिस द्वारा धारा 66 ए के तहत मामले दर्ज करना जारी रखने पर हैरानी और निराशा व्यक्त की थी। एनजीओ ‘पीपल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज’ ने बताया था कि राज्यों ने फैसले के बाद हजारों मामले दर्ज किए हैं और केंद्र को इन मामलों को तत्काल वापस लेने के लिए कदम उठाने की जरूरत है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here