डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर ने ओलंपिक में फाइनल में जगह बनाई ।

डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर ने ओलंपिक में एक भारतीय द्वारा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में से एक का उत्पादन किया, हालांकि क्वालीफाइंग दौर में, उसने शनिवार को यहां दूसरे स्थान पर रहने के बाद चल रहे खेलों के फाइनल में जगह बनाई।

डिस्कस थ्रो प्रतिस्पर्धा में भारत की कमलप्रीत कौर ने अपने प्रदर्शन से सभी को चौंका दिया है। कमलजीत ने तीसरे प्रयास में 64 मीटर का थ्रो कर फाइनल में जगह बनाई है। कमलजीत ने अगर यही प्रदर्शन दोहरा दिया तो वह एथलेटिक्स में मेडल लाने वाली पहली भारतीय होंगी। सबके मन में कमलप्रीत कौर से मेडल की उम्मीद बढ़ गई हैं। 25 साल की कमलप्रीत कौर पंजाब की काबरवाला गांव की रहने वाली हैं।

उनका जन्म एक किसान परिवार में हुआ था।कोरोना महामारी के कारण कोई टूर्नामेंट न होने की वजह से वह पिछले साल के अंत में काफी हताश हो गई थीं। वह डिप्रेशन जैसा महसूस करने लगी थीं। यही कराण है कि उन्होंने अपने गांव में क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था। उसने क्रिकेट खेलना शुरू तो किया था, लेकिन उसने ऐसा किसी टूर्नामेंट या पेशेवर क्रिकेटर बनने के लिए नहीं किया। वह केवल अपने गांव के मैदान मे ही क्रिकेट खेल रही थी।’


एक मजबूत सीज़न के बाद मुख्य आयोजन के लिए, कमलप्रीत कौर ने सही समय पर चोटी की क्योंकि डिस्कस थ्रोअर ने शनिवार को टोक्यो ओलंपिक महिला डिस्कस थ्रो फाइनल के लिए क्वालीफाई करने के लिए ठीक 64.00 मीटर की दूरी तय की।

Share It