‘कोवैक्सिन पर WHO का रुख भारत के लिए एक गंभीर झटका’!

काफी लंबे समय से आपात मंजूरी की मांग करने वाली स्वदेशी वैक्सीन निर्माता कंपनी भारत बायोटेक को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) से एक बार फिर झटका लगा है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा भारत में विकसित कोविड वैक्सीन कोवैक्सिन के लिए आपातकालीन उपयोग की मंजूरी में और देरी होगी।

सूत्रों के मुताबिक, वैक्सीन निर्माता भारत बायोटेक को और तकनीकी सवाल भेजे हैं। इस झटके से भारतीयों, विशेषकर छात्रों की अंतर्राष्ट्रीय यात्रा योजनाओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की संभावना है। इस मंजूरी के बिना Covaxin को दुनिया भर के अधिकांश देशों द्वारा स्वीकृत वैक्सीन नहीं माना जाएगा।

दरअसल डब्ल्यूएचओ ने भारत बायोटेक से उसकी कोरोना वैक्सीन ‘कोवाक्सिन’ को आपात मंजूरी देने के लिए और भी डाटा उपलब्ध कराने को कहा है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि फिलहाल आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण में कुछ और दिनों की देरी होगी।

देरी का संकेत केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के उस बयान के बाद आया है, जब कहा गया था कि वैक्सीन को जल्द ही कभी भी मंजूरी मिल सकती है।

Share It